Movie prime

Types Of Ration Card : राशन कार्ड कितने प्रकार के होते है? जानिए - सभी के फायदे 

Types Of Ration Card: How many types of ration cards are there? Know the benefits of all

 
gdf
Whatsapp   JOIN US                               
Telegram                                               JOIN US
Google News  JOIN US

आजकल लोगों के पास कई प्रकार के दस्तावेज हैं जो उनकी पहचान को दर्शाते हैं जिनमें आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस,  पासपोर्ट और राशन कार्ड शामिल है. इन सभी में राशन कार्ड एक ऐसा डॉक्यूमेंट है जो आपकी पहचान पत्र के साथ ही सब्सिडी के तहत खाद्यान्न प्राप्त करने के काम में आता है . आधार कार्ड से पहले पहचान के रूप में राशन कार्ड का ही प्रयोग हुआ करता था,  राशन कार्ड के कई प्रकार होते हैं आज हम आपको इस आर्टिकल में राशन कार्ड के प्रकार के बारे में बताने वाले हैं. 

नीला-हरा-पीला राशन कार्ड

जो लोग गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन कर रहे हैं उनके लिए सरकार के द्वारा नीला हरा और पीला रंग का राशन कार्ड जारी किया गया है आपको बता दे की राशन कार्ड के इन रंगों को राज्य और संघ क्षेत्र के आधार पर निर्धारित किया गया है और इन राशन कार्ड पर ही पात्रों को राशन दिया जाता है. 

df

इसके साथ ही यह राशन कार्ड उन परिवारों के लिए जारी किया जाता है जिनके पास एलपीजी कनेक्शन भी नहीं है. इसके साथ ही ग्रामीण इलाके में 6,400 की आए और सही इलाके मे 11,850 रुपए सालाना दिए जाते हैं. 

गुलाबी राशन कार्ड

राशन कार्ड ग्रामीण इलाकों में रहने वाले ऐसे परिवार जिनकी सालाना आय 6,400 से ज्यादा और शहरी परिवार जिनकी सालाना आय 11, 850 से ज्यादा होती है उनके लिए गुलाबी राशन कार्ड जारी किए गए हैं इस कार्ड पर परिवार के मुखिया की फोटो भी लगी होती है। 

अंत्योदय अन्न योजना राशन कार्ड

sd

यह राशन कार्ड उन परिवारों के लिए जारी किया गया है जिनके पास किसी प्रकार की नियमित आय का साधन नहीं है और उनके लिए यह अंतोदय राशन कार्ड चलाया गया है , इस श्रेणी में मजदूर, बुजुर्ग और बेरोजगार आते हैं, जो अत्यंत गरीब केटेगरी में शामिल है। 

सफेद राशन कार्ड

सफेद राशन कार्ड उन परिवारों के लिए जारी किए गए हैं जो आर्थिक रूप से मजबूत है और जिन परिवारों को सब्सिडी वाले खाद्यान्न की जरूरत नहीं होती है,सफेद राशन कार्ड ज्यादातर पहचान पत्र या एड्रेस प्रूफ के काम आते हैं।

यह भी देखें--क्यों चर्चा में है लक्षद्वीप? कभी हिंदुओं और बुद्धों का हुआ करता था स्थान, जानिए - कैसे पहुंचे यहां मुसलमान..